दीप त्रिवेदी

विख्यात सायकोएनालिस्ट श्री दीप त्रिवेदी, व्यापक सायकोलोजिकल दृष्टिकोण रखनेवाले एक उत्कृष्ट लेखक और वक्ता हैं। इनका लेखन मनुष्य को अपनी संपूर्ण क्षमता प्राप्त करने की ओर अग्रसर करने के साथ-साथ जीवन की प्रचलित कार्यप्रणालियों और तौर-तरीकों पर प्रश्न भी उठाता है। इन्हें मानव-मन और मस्तिष्क की कार्यपद्धति का इतनी गहराई से ज्ञान है कि ये किसी भी घटना या मानव-जीवन के प्रवाह का आकलन करने में सक्षम हैं। यही कारण है कि इनके द्वारा लिखी कई किताबों में से एक का शीर्षक है ‘भाग्य’।

इनके द्वारा लिखित अन्य किताबों में मैं मन हूँ, मैं समय हूँ, मेरी कहानी मेरी जुबानी-कृष्ण, सबकुछ सायकोलोजी है, बुद्ध का संपूर्ण जीवन; आदि का नाम शुमार है। मानव-जीवन की गुणवत्ता सुधारने के उद्देश्य से इन्हीं विषयों पर इनके द्वारा दिए गए उपदेश इनके लेखन के पूरक हैं।

इसके साथ ही श्री दीप त्रिवेदी एक सफल बिजनसमैन भी हैं और उनकी पहल आत्मन इनोवेशन्स प्राइवेट लिमिटेड की स्थापना मानव-जीवन की उन्नति के उत्कृष्ट उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए की गई है।