Psychology


Categories

Random Quote

‘‘क्रोध’’ व ‘‘प्रेम’’…मनुष्य जीवन में ऊर्जा के यही दो केन्द्र हैं। धर्म, शिक्षा व समाज ने मिलकर इन दोनों को ही मनुष्य में से खत्म कर दिया है। इसी से पूरी मनुष्य जाति मर-मरकर जीने को मजबूर है।



“Anger” and “Love”…are the only two centres of energy in human life. Religion, education and society have killed both these in a human being which is why, the entire mankind is compelled to lead a life of helplessness.

Most Read