September 17, 2015 9:00 am

प्रकृति एक संयुक्त हैपनिंग से चल रही है। मनुष्य भी उस हैपनिंग का ही एक हिस्सा है। परंतु अपनी बुद्धि के बल पर उसने अपनी एक अलग दुनिया बना ली है। और यही उसके पतन का प्रमुख कारण बनकर उभरा है।

प्रकृति