April 28, 2016 9:30 am

“मनुष्य कैसा भी हो, कहीं का भी हो किसी भी हाल में हो वह एक ही उद्देश्य से जीता है कि जीवन को सुखी और सफल बनाएं।” – दीप त्रिवेदी

16f