October 13, 2015 10:00 am

मनुष्य-जीवन में कोई प्लानिंग करने लायक है तो वह एक ही है कि जब वह जीवन की अंतिम सांसें ले रहा हो तब उसे ना तो कोई गिल्ट होनी चाहिए और ना ही असंतोष का कोई भाव। …सबकुछ करने के बाद भी यदि दुनिया से विदा लेते वक्त किसी प्रकार का असंतोष या पश्चाताप हो…तो फिर उसने जीवन में किया क्या?

Uncategorized

hindi