March 15, 2015 9:30 am

यह कुदरत का नियम है कि वास्तविक दुःख बाद में आता है और उसको सहन करने की शक्ति पहले आती है। लेकिन अहंकारजनित काल्पनिक दुःखों का कुदरत के पास भी कोई इलाज नहीं; वे हमारे ही पैदा किए होते हैं और उन्हें हमें ही सहन करने होते हैं।

15.3-hindi