February 13, 2015 9:30 am

हम भी क्या अजीब हैं?

B-283-Hindi

 

जीवन की हकीकत समझते नहीं और उसे माया मानने को तैयार नहीं

– दीप त्रिवेदी