Archive


27
Feb

मैं तो ठगा ही गया पर आप चेत सकते हो तो चेतो

  मैंने अभी-अभी शरीर छोड़ा है। पता नहीं मैं कहा पहुंच गया हूँ। पर जहां...[ read more ]

22
Feb

कहीं कृष्ण से भगवद्गीता कहते वक्त कोई चूक तो नहीं हुई है?

  वैसे तो कृष्ण सम्पूर्ण व्यक्तित्व के मालिक हैं। प्रेम, ज्ञान व ध्यान की तो...[ read more ]

Archives

Random Quote

समय, संजोग व परिस्थिति की मांग पर सबके हित में जब, जो और जैसा भी करने योग्य हो…वह करने की क्षमता रखने वाला धार्मिक; बाकी सब अधार्मिक।



The one who on demand of time, situation and circumstances can carry out an act whenever, whatever, however is necessary for the benefit of all…is religious; the rest all are irreligious.

Most Read